दिल को पत्थर से

दिल को पत्थर से तार-तार करके मलहम लगाते है वो, 

और कहते लो जोड़ इसे, मैं फिर किसी रोज़ तोड़ जाऊँगी….