फ़र्क़ नहीं पड़ता: अमीर हाशमी की कलम से…

तुम आओ ना आओ, किसका इंतज़ार हमें,
पहले भी की है मुहब्बत, फिर कर लेंगे कहीं…
*फ़र्क़ नहीं पड़ता…!*

मुद्दतों छुपाया है दिल में इसी तराह तेरा ईश्क़,
तेरे बाद मेरे यार हैं धुँआ, शराब और मेरा हिज़्र,
*फ़र्क़ नहीं पड़ता…!*

तेरी मुस्कान पे लिखते रहें नज़्में हज़ार हम,
तेरे ग़म में चाक़ मेरा सीना और कलम भी तो है,
*फ़र्क़ नहीं पड़ता…!*

चांद तारों को जो तुम गवाह छोड़ गए हो ना,
पूछो क़सम से मेरी हालत, झूट कहेंगे तुमसे,
*फ़र्क़ नहीं पड़ता…!*

*#अमीरहाशमी की कलम से…*

In english:

Tum aao na aao, kisaka intazaar hamen,
Pahale bhee ki hai muhabbat, phir kar lenge kaheen…
*farq nahin padata…!*

Muddaton chhupaya hai dil mein isi taraah tera ishq,
Tere baad mere yaar hain dhuna, sharaab aur mera hizr,
*farq nahin padata…!*

Teri muskaan pe likhate rahen nazmen hazaar ham,
Tere gam mein chaaq mera seena aur kalam bhee to hai,
*farq nahin padata…!*

Chaand taron ko jo tum gavaah chhod gaye ho na,
Poochho qasam se meri haalat, jhoot kahenge tumase,
*farq nahin padata…!*

*#amirhashmi ki qalam se…*